श्री अय्यप्पा सेवा संघम संचालक मंडल की निर्वाचन प्रक्रिया स्थगित, उपायुक्त से हस्तक्षेप का अनुरोध

बोकारो : दिनांक 28.07.2019 को श्री अय्यप्पा पब्लिक स्कूल, बोकारो में अय्यप्पा सेवा संघम की वार्षिक सभा का आयोजन किया गया था। इस सभा में अय्यप्पा सेवा संघम के बोकारो में रहने वाले लगभग सभी गणमान्य सदस्य उपस्थ्ति थे। अय्यप्पा सेवा संघम के अध्यक्ष श्री पी राजागोपाल ने सभी का स्वागत किया। अपने स्वागत भाषण में स्कूल की विभिन्न उपलब्धि के वारे में बताया। इस अवसर पर वार्षिक विवरण के साथ वितीय विवरण की अनुमोदन सभागार में किया गया।

परन्तु संचालक मंडल का निर्वाचन प्रक्रिया कीशुरुआत पीठासीन अधिकारी डाॅ॰ बी. सुरेश बाबु ने जैसे ही की, 06 से 08 लोग बिना बजह झगड़ा करने के साथ-साथ गाली गलौज पर उतारू हो गए तथा कुछ सदस्यों के साथ धक्का मुक्की किया। उन्होनें इस कदर खौफ की माहौल पैदा कर दिया कि निर्वाचन हो नहीं पाया।

बताया जा रहा है कि पहले भी ऐसे लोगों की बजह से दो वार जिला प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद नई संचालक मंडल का गठन होना संभव हुआ था। पिछले कुछ महीनों से ये लोग संघम की कार्रवाई में रूकावट डालने की प्रक्रिया में इस हद तक नीचे गिर गए हैं कि संचालक मंडल का सदस्यों को डरा धमका रहे हैं। श्री अय्यप्पा मंदिर, बोकारो की एक प्रसिद्ध मंदिर के रूप से जाना जाता है। इस मंदिर में दक्षिण के धार्मिक मुल्य एंव भगवान के प्रति अगाध विश्वास प्रतीत होता है। स्कूल में भी मूल्यबोध शिक्षा के प्रति जागरूकता है। यहाँ पर समाज के सभी वर्गों के सभी जाति के बच्चे शिक्षा लाभ करते हैं। ऐसे परिस्थिति में कुछ लोगों की एैसे अशोभनीय व्यवहार को संचालंक समिति के सभी सदस्य ने निंदा की है।

विद्यालय में लगभग 4500 बच्चें एंव 225 कर्मचारी के भविष्य के साथ खेलवाड़ करने वाले को सहयोग नहीं करने के लिए संचालक मंडल का सबसे अनुरोध किया गया है।

इस घटना को विस्तार रूप से पत्र के माध्यम से कुछ वरीय सदस्य तथा मंदिर एंव स्कूल के शुभ चिंतक के हस्ताक्षर के साथ बोकारो के उप-आयुक्त को सौपा एंव इस परिस्थिति के समाधान हेतु अनुरोध किया कि जल्द से जल्द अय्यप्पा सेवा संघम की संचालक मंडल का निर्वाचन प्रक्रिया के सुचारू रूप से संपादन हो सके।

संबंधित समाचार

error: Content is protected !!