कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में बोकारो के 06 पदाधिकारियों का वेतन रुका

उपायुक्त मृत्युंजय कुमार बरणवाल ने कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में जिले के 06 पदाधिकारियों के वेतन रोकने तथा स्पष्टीकरण का आदेश दिया।

उपायुक्त श्री बरणवाल ने जिले में चल रही मैट्रिक और इण्टरमीडिएट की परीक्षा में तैनात दण्डाधिकारी जिला कृषि पदाधिकारी राजीव कुमार मिश्रा, जिला सहकारिता पदाधिकारी मंजु विभावरी एवं जिला गव्य विकास पदाधिकारी सुरेन्द्र कुमार कटियार को परीक्षा कार्य के दौरान अनुपस्थित रहने के कारण वेतन रोकने का आदेश दिया।

वहीं जिला समाज कल्याण पदाधिकारी सुमन गुप्ता, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी चास (ग्रामीण) ज्योति प्रसाद एवं बाल विकास परियोजना पदाधिकारी गोमिया अर्चना एक्का को जनसंवाद के मामले में जवाब नहीं दिए जाने पर उनके वेतन पर रोक लगा दी है।

उपायुक्त श्री बरणवाल ने आदेश जारी कर जिले के प्रतिनियुक्त चिकित्सकों को निदेश दिया है कि जिला अस्पताल से लेकर सभी पीएचसी, सीएचसी में सप्ताह में एक बार बैठना सुनिश्चित करें। वहीं बैठने की दिन एवं तिथि की तालिका पीएचसी एवं सीएचसी के दिवाल पर लिखवाना भी सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि जांच के दौरान दिवाल पर तालिका नहीं लिखा पाये जाने पर उक्त चिकित्सक के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। साथ ही उन्होंने पेयजल की समस्या से निपटने के लिए पेयजल एवं स्वच्छता प्रमण्डल चास एवं तेनुघाट दोनों जगह पदाधिकारियोें, कर्मचारियों, जनप्रतिनिधियों एवं बुद्धिजीवियों की एक कमिटी बनाकर नियंत्रण कक्ष के रूप में कार्य करने का निदेश दिया है। उन्होंने कहा कि इस कमिटी का एक शिकायत नम्बर भी होगा जिनमें आमजन अपनी समस्या कमिटी के पास रख सकेगी। साथ ही इस समिति को निदेश दिया गया है कि दिन में अपने क्षेत्र में कम से कम 200 लोगों के साथ दुरभाष पर वार्ता करेंगे तथा पेयजल की समस्या हेतु जानकारी प्राप्त करेंगे। साथ ही इसे रजिस्टर में दर्ज किया जाना अनिवार्य होगा।

उपायुक्त ने जानकारी दी कि 13 मार्च दिन मंगलवार को उनकी अध्यक्षता में पूर्वाहन् 11ः00 बजे से जियाडा की पब्लिक क्लियरेंस कमिटी की बैठक भी वियाडा भवन में आयोजित की जायेगी, जिसमें 35 मामलों पर सुनवाई की जायेगी। इस दौरान जियाडा राँची से एक प्रतिनिधि, वियाडा सचिव, एडीओ वियाडा भी शामिल रहेंगे।

संबंधित समाचार

error: Content is protected !!