माओवादियों की धमक बनी पुलिस के लिए चुनौती

दीपक/CHANDWA :: थाना क्षेत्र के ढोंठी व आरा मड़मा के बीहड़ जंगलों के बीच माओवादियों द्वारा तीन अगजनी की घटनाओं के बाद उनकी धमक पुलिस के लिए चुनौती बन गई है। ढोंठी मड़मा में निर्माणाधीन डकरा पुल पर हाइवा, आरईओ द्वारा सड़क निर्माण में लगे पोकलेन और आरा गांव में किए जा रहे पुलिया निर्माण में लगे जेसीबी और बोलरो को जला माओवोदियों ने पुलिस को यह बताया है कि उनकी धमक अब भी बरकरार है। 708 करोड़ की लागत से विकास की चलाई जा रही योजनाओं में माओवोदियों ने धावा बोल काम बंद करने की चेतावनी दी है। ढोंठी से मड़मा पथ निर्माण की लागत 4061 करोड़, डकरा पुल निर्माण की लागत लगभग दो करोड़ व आरा गांव में बन रहे पुल की लागत 102 करोड़ (कुल 708 करोड़) से निर्माण कार्य किया जा रहा था। जिस इलाके में यह कार्य हो रहा है पूर्व में वह नक्सलियों का गढ़ माना जाता रहा है। रात तो क्या दिन में यहां से गुजरने में डर लगता है। लम्बे अरसे के बाद एक दिन में तीन घटनाओं के बाद दहशत का माहौल है। माओवोदियों द्वारा की गई इस अगजनी में लगभग एक करोड़ की संपति के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है। वहीं इसे सुरक्षा में चूक भी बताया जा रहा है। प्राथमिकी दर्ज कर पुलिस अग्रेतर कारवाई में जुटी है।

कहते हैं पुलिस निरीक्षक : पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी मोहन पांडेय ने इस बावत बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर पुलिस अग्रेतर कारवाई में जुटी है। आगे कहा है कि क्षेत्र में शांति व्यवस्था को भंग करने वाले बख्शे नहीं जाएंगे।

संबंधित समाचार

error: Content is protected !!