दिनदहाड़े सरकारी जमीन पर हो रहा है कब्जा

जमशेदपुर : इन दिनों लौहनगरी में सरकारी जमीन का बंदरबांट धड़ल्ले से चल रहा है. दिन के उजाले में ही सरकारी जमीनों अतिक्रमण कर भू माफियाओं के द्वारा और स्थानीय राजनीतिक पार्टी के सहयोग से उसपर मकान का निर्माण कराया जा रहा है. सरकारी जमीन बेचकर राजनीतिक पार्टी प्रतिनिधि और भूमाफिया को लाखों रुपयों के वारे न्यारे हो रहे हैं. मगर इन सब के बावजूद विभाग के अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है. या यूं कहें कि उन्हें इस बात की कोई जानकारी ही नहीं है. ऐसा ही एक मामला कदमा थाना क्षेत्र का है.
कदमा भाटिया बस्ती मरीन ड्राइव घोड़ा चौक के सामने स्थित गंगा पथ कि सरकारी जमीन की खरीद-फरोख्त धड़ल्ले से चल रहा है. स्थानीय भूमाफिया अपनी राजनीतिक कनेक्शन के सहयोग से सरकारी जमीन को लाखों रुपए में ठेले वालों और निचले तबके के लोगों को बेच रहे हैं. लगभग एक बीघा जमीन बेचा भी जा चुका है और उसपर घर भी बनवाया जा चुका है.
अब भी सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर बेरोकटोक कमरों का निर्माण किया जा रहा है. मगर सोचने वाली बात तो यह है कि स्थानीय प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं है. इन्हीं सरकारी जमीनों के अतिक्रमण के खेल में कई नामी-गिरामी की हत्याएं तक हो चुकी है जिसमें बिष्टुपुर के धातकीडीह निवासी शराब माफिया बुच्चू घोष जैसे नाम भी शामिल है. लगता है प्रशासनिक अधिकारी कोई अनहोनी होने का इंतजार कर रहे हैं, उसके बाद ही कोई कदम उठाया जाएगा. बताते चलें कि इसी जमीन पर मॉल बनाने का करार राज्य सरकार और मुंबई के कार्निवाल ग्रुप के बीच हुआ है. मगर कार्निवाल ग्रुप ने अब तक काम शुरू नहीं किया है.
इसका कारण अवैध रूप से सरकारी जमीन पर हुआ अतिक्रमण है. कार्निवाल ग्रुप के अधिकारियों ने साफ शब्दों में कह दिया है कि जमीन वैकेंट होने के बाद ही वे मॉल का काम शुरू करेंगे. इस बारे में अनुमंडल पदाधिकारी धालभूम चंदन कुमार ने कहा कि शिकायत मिलने पर सरकारी जमीन पर हो रहे अतिक्रमण को रोका जाएगा और अतिक्रमण हो चुके जमीन को मुक्त कराया जाएगा. साथ ही इस मामले में सभी दोषियों पर कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी.

संबंधित समाचार

error: Content is protected !!