जमशेदपुर न्यायालय में हुई आतंकी अब्दुल सामी की पेशी, अगली पेशी 8 नवंबर को

कालीचरण/JAMSHEDPUR :: संदिग्ध आंतकी अब्दुल शामी की गुरुवार को जमशेदपुर न्यायालय में पेशी हुई. इसके लिए आतंकी अब्दुल को देर रात दिल्ली के तिहाड़ जेल से कड़ी सुरक्षा के बीच रेलवे मार्ग से जमशेदपुर लाया गया. बिष्टुपुर थाना अंतर्गत धातकीडीह बी ब्लॉक निवासी अब्दुल शामी की गिरफ्तारी हरियाणा के मेवात से अलकायदा से जुड़े होने के संदेह में हुई थी.

12 अक्टूबर को लाया गया था पेशी के लिए :
आतंकी अब्दुल शामी को 12 अक्टूबर को भी न्यायालय में पेशी के लिए रेलवे मार्ग से जमशेदपुर लाया गया था. लेकिन ट्रेन लेट होने की वजह से उसकी पेशी नहीं हो पाई थी. उसके बाद उसे वापस दिल्ली तिहाड़ जेल भेज दिया गया था और कोर्ट ने पेशी के लिए 25 अक्टूबर की अगली तारीख रखी थी. अब्दुल शामी के खिलाफ आंतकी संगठन से जुड़े रहने, विस्फोटक अधिनिय़म और आर्म्स एक्ट की धारा के तहत बिष्टुपुर थाने में मामला दर्ज कराया गया था.

अब्दुल रहमान कटकी की निशानदेही पर हुआ गिरफ्तार :
ओड़िशा से अलकायदा के संदेह में गिरफ्तार अब्दुल रहमान कटकी की निशानदेही पर दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने अब्दुल शामी को हरियाणा के मेवात से 18 जनवरी 2016 को गिरफ्तार किया था. स्पेशल टीम ने जब उससे पूछताछ की तो पता चला कि वह जमशेदपुर के बिष्टुपुर थाना अंतर्गत घातकीडीह का रहने वाला है. स्पेशल टीम की रिर्पोट पर जिला पुलिस ने छापामारी कर धातकीडीह से अब्दुल मसूद और मानगो थानांतर्गत पुरुलिया रोड से मोहम्मद नसीम को भी गिरफ्तार किया था. इन पर भी अलकायदा के लिए काम करने का आरोप है. इन लोगों के पास से अलकायदा के संबधित संदिग्ध दस्तावेज और अखबार की कटिंग बरामद किए गए थे. उसी आधार पर बिष्टुपुर के तत्कालिन थाना प्रभारी जितेन्द्र कुमार के बयान पर अब्दुल शामी, अब्दुल मसुद, मोहम्मद समीम और अब्दुल रहमान कटकी पर मामला दर्ज किया गय़ा था. फिलहाल अब्दुल मसुद और मोहम्मद नसीम धाघीडीह सेंट्रल जेल में बंद है. अब्दुल रहमान कटकी और अब्दुल शामी पर अलकायदा के लिए देश में नेटवर्क तैयार करने का आरोप है. आतंकी अब्दुल शामी की अगली पेशी जमशेदपुर न्यायालय में 8 नवंबर को होगी.

संबंधित समाचार