ओवरब्रिज निर्माण को लेकर बंटा नोटीस, स्थानीय लोग करेंगे बैठक

आसिफ़ अंसारी/SURIYA :: सरिया रेलवे फाटक पर ओवरब्रिज निर्माण को लेकर विभाग के द्वारा कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई। ओवरब्रीज निर्माण के बाद इस रूट से जाने वाले लोग राहत की सांस लेंगे। परन्तु दूसरी ओर स्थानीय लोग संबंधित विभाग के उदासीन रवैया के खिलाफ गोल बंद होना चालू कर दिए हैं। बताते चलें कि अंचल कार्यालय सरिया के द्वारा बिहार भूमि अधिग्रहण एक्ट 1956 का हवाला देते हुए सरिया बाजार के लगभग 256 व्यवसायियों के बीच अतिक्रमण से जुड़ा नोटिस का वितरण किया गया है।

वहीं स्थानीय लोगों का मानना है कि उक्त भूमि पर वे तथा उनके कई वंशज विगत कई वर्षों से मकान बनाकर रह रहे हैं। सरकारी नियम के अनुसार सरकार के खजाने में मालगुजारी टैक्स भी जमा की जा रही है। साथ ही पूर्व की बैठकों में स्थानीय सांसद, विधायक, अनुमंडल पदाधिकारी के साथ बैठक में यह तय किया गया था कि ओवरब्रिज निर्माण को लेकर आवश्यकतानुसार ही जमीन का अधिग्रहण कर उस पर निर्माण कार्य किया जाएगा। कहा गया था कि अगर संभव हो तो मुख्य मार्ग पर रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण ना करवा कर सरिया बाजार को बचाते हुए बाईपास सड़क निर्माण का भी प्रस्ताव सरकार के पास भेजी जाएगी।

परंतु सरिया गणेश मंदिर चौराहा से सरिया किस्टो दुर्गा काली मंडप के दोनों ओर के लोगों को खाता नंबर 200 की जमीन का हवाला देते हुए एवं पी डब्लू आई के नक्शा का हवाला देते हुए अतिक्रमण को हटाने एवं अपना पक्ष रखने का आदेश अंचल कार्यालय के द्वारा निर्गत किया गया है। जिससे स्थानीय लोगों में गुस्से की भावना विभाग के प्रति देखी जा रही है। इसे लेकर आगामी शनिवार को सरिया जैन धर्मशाला में स्थानीय जमीन मालिकों द्वारा एक बैठक का आयोजन किया गया है। उक्त बातों की जानकारी कुश कांत सिंह ने दी।

संबंधित समाचार