क्रीड़ा भारती राष्ट्रीय अधिवेशन में संघ का अनुशासन का पाठ समाप्त होते ही दिखी अनुशासनहीनता

क्रीड़ा भारती राष्ट्रीय अधिवेशन में संघ का अनुशासन का पाठ समाप्त होते ही दिखी अनुशासनहीनता

संघ प्रमुख के जाते ही संघी ने दिखाया अपनी असली औकात

संघ के हर कार्यक्रम में अनुशासन का उम्दा नजारा देखने को भी मिलता है। झारखण्ड के धनबाद में भी सफलता पूर्वक संपन्न हुए क्रीड़ा भारती के तीन दिवसीय अधिवेशन में अनुसाशन खूब झलका।  पर संघ में अगर ऐसे लोग भी तादात में हों तो इस बात से सचमुच इनकार नहीं किया जा सकता कि संघ का अनुशासन का पाठ एक बाहरी दिखावा है, इसमें कोई दो राय नहीं। शायद आप हमारी बातो पर विश्वास न करे। तो चलिए पहले इस वीडियो को ध्यान से देख लीजिए। उम्मीद है उसके बाद आपके सारे भ्रम दूर हो जाए।

दरअसल जिस खुले जीप पर सवार होकर संघ प्रमुख मोहन भागवत, झारखण्ड के सीएम रघुवर दास और क्रीड़ा भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष चेतन चौहान देश के अलग-अलग राज्यों से कार्यक्रम में आए 2 हजार खिलाड़ियों से सलामी लेते दिख रहे है उस वाहन का ड्राइवर ही उस वीडियो में आपको मारपीट करते और गालियां देते दिखाई पड़ रहा है।

दरअसल इस व्यक्ति का नाम सत्यम है और यह धनबाद के एक चर्चित स्कूल में बतौर स्पोर्ट्स टीचर के रूप में कार्यरत है। और इसकी यह तस्वीर (सलामी कार्यक्रम) संघ में इसके कद को भी बयां करता है। लेकिन जैसे ही कार्यक्रम का समापन होता है और संघ प्रमुख कार्यक्रम स्थल से कुच करते है ये तथाकथित संघी अपनी असली औकात दिखाना शुरू कर देते है।

इस झगड़े में शामिल दूसरा गुट भी कोई और नहीं बल्कि वो भी संघ के ही सक्रिय सदस्य बताए जाते है। जिन्होंने संघ की रीढ़, अनुशासन को ही इस भव्य कार्यक्रम के अंत में बुरी तरह से तोड़ डाला। फिलहाल इस झगडे के मुख्य कारणों का पता नहीं चल पाया है। लेकिन तीन दिनों के सफल कार्यक्रम पर इस घटना ने “चाँद पर काला धब्बा” जैसा एक दाग जरूर लगा दिया है।

संबंधित समाचार