राजधानी राँची अवस्थित पुराना बिरसा मुण्डा जेल बनेगा बिरसा मुण्डा संग्रहालय

mukhydhara desk /Deoghar ::

जिला के विभिन्न विषयों की कार्य प्रगति एवं अवश्यक सूचनाओं से आमजनों को अवगत कराने के उद्देश्य से एक संवाददाता सम्मेलन का आयोजन उपायुक्त राहुल कुमार सिन्हा के द्वारा समाहरणालय सभागार में की गयी। उन्होंने संवाददाताओं को जानकारी देते हुए कहा कि झारखण्ड सरकार की ऐतिहासिक धरोहरों को संरक्षित एवं विकसित कर वर्तमान तथा आने वाले पीढ़ी को गौरवपूर्ण अतीत से अवगत कराने के उद्देश्य से राजधानी राँची अवस्थित पुराना बिरसा मुण्डा जेल का जीर्णोद्धार एवं संरक्षण करते हुए बिरसा मुण्डा संग्रहालय बनवाने की योजना है। इस संग्रहालय में झारखण्ड के सभी गाँवों से उनकी पावन मिट्टी को प्रतीकात्मक एवं सांकेतिक रूप में संग्रहित की जाएगी। इसके लिए मिट्टी संग्रहण का कार्य 09 जनवरी से 23 जनवरी तक विभिन्न चरणों में चलायी जाएगी। सर्वप्रथम यह कार्य ग्राम स्तर पर सुनिश्चित की जाएगी जो 09 जनवरी से 11 जनवरी तक चलेगी।

इसके उपरांत संग्रहित सभी पावन मिट्टी को प्रखण्ड स्तर पर संग्रहित किया जाएगा। यह कार्य 17 जनवरी को की जाएगी। तदोपरान्त 19 जनवरी को जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में सभी प्रखण्डों से इस पावन मिट्टी का संग्रहण सुंदर एक बड़े पात्र में एकत्रित कर राज्य को भेजी जाएगी। उपायुक्त ने कहा कि यदि किसी कारणवश गाँवों के स्वतंत्रता सैनानी अथवा वीर शहीदों की पहचान जिला स्तर अथवा राज्य स्तर पर छुट गई हो तो उसे भी सामने लायें। इसे ग्राम स्तर पर चिन्ह्ति करें।

उन्होंने पंचायत प्रशिक्षण केन्द्र, जसीडीह में चल रहे प्रधानों एवं मूल रैयतों की प्रशिक्षण के बारे में जानकारी संवाददाताओं को दी। उन्हांेनें बताया कि इस प्रशिक्षण का उद्देश्य प्रधानी राजस्व संग्रहण एवं सरकारी भूमि का संरक्षण है। ग्राम प्रधानों को नई तकनीकी से प्रशिक्षित कर राजस्व संग्रहण में वृद्धि करना एवं भूमि अभिलेखों का संरक्षण किया जाना है। यह प्रशिक्षण आज से शुरू हो चुकी है जो अगले पाँच दिनों तक चलेगी। यह प्रशिक्षण प्रखण्डवार आयोजित की जा रही है परन्तु यदि प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके किसी प्रखण्ड के ग्राम प्रधान मूल रैयत इन पाँच दिनों में पुनः प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहते हैं तो प्रशिक्षण केन्द्र आकर पुनः प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने पंचायत उपचुनाव की प्रशासनिक तैयारियों की जानकारी दी। उन्हांेने कहा कि आगामी 19 दिसम्बर को होने वाले उपचुनाव के संदर्भ में सभी आवश्यक तैयारियाँ पूरी की जा रही है एवं 19 तारीख को शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव सम्पन्न कर लिए जाएँगे।

उन्होंने अयोग्य लाभुकों के द्वारा राशन कार्डधारियों को मीडिया के माध्यम से आगाह करते हुए कहा कि अयोग्य सभी राशन कार्डधारी अगले 31 दिसम्बर, 2018 तक राशन कार्ड स्वेच्छा से समर्पित कर दें अन्यथा समय बीत जाने के बाद उनके विरूद्ध नियमानुकूल दण्डात्मक कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि आगामी 31 दिसम्बर, 2018 तक जो भी अयोग्य राशन कार्डधारी अपना राशनकार्ड समर्पित करेंगे, उनके विरूद्ध किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी परन्तु निर्धारित समयावधि बीत जाने के बाद यदि कोई कार्डधारी राशन कार्ड समर्पित करते हैं, तो उनके विरूद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत जुर्माना के साथ-साथ प्राथमिकी दर्ज करने की कार्रवाई की जाएगी। प्रशासन के पास अयोग्य राशन कार्डधारियों की पूरी सूची है और वैसे कार्डधारियों के विरूद्ध 01 जनवरी, 2019 से कार्रवाई प्रारंभ की जाएगी। इसलिए प्रशासन ऐसे कार्डधारियों को मीडिया के माध्यम से सूचित करती है कि वे स्वेच्छा से अपना राशन कार्ड प्रशासन के समक्ष समर्पित कर दें अन्यथा उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने 14वें वित्त आयोग के तहत् सभी खराब पड़े चापाकलों के मरम्मति के आदेश दिये जाने संबंधी जानकारी मीडिया को दी। उन्होंने कहा कि आगामी गर्मी से पूर्व इस कार्य को सुनिश्चित कर लिया जाना है ताकि गर्मी के दिनों में उत्पन्न होने वाले पेयजल संकट से निपटा जा सके एवं आमलोगों को कोई परेशानी का सामना न करना पड़े।

संवाददाता सम्मेलन में उपायुक्त राहुल कुमार सिन्हा के साथ-साथ जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी रवि कुमार, प्रिंट एवं इलेक्ट्राॅनिक मीडिया के प्रमुख संवाददाता व छायाकार उपस्थित थे।

संबंधित समाचार

error: Content is protected !!