काली पूजनोत्सव पर बही सुरों की रसधार रंजना, रजनीश, नरेश व अरुण ने बांधा समां

कनक भूधर शिखरवासिनी, चंद्रिका लय चारूहासिनी…
बोकारो में काली पूजनोत्सव पर बही सुरों की रसधार
रंजना, रजनीश, नरेश व अरुण ने बांधा समां

– पूरी रात सुर सरिता में गोते लगाते रहे श्रद्धालु

बोकारो। सेक्टर- 2डी स्थित श्यामा माई मंदिर में मैथिली कला मंच काली पूजा ट्रस्ट की ओर से आयोजित श्री 1008 महाकाली पूजनोत्सव एक बार फिर अविस्मरणीय यादें छोड़ गया। इस वर्ष भी यहां काली पूजा के उपलक्ष्य में भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें लब्ध-प्रतिष्ठित आमंत्रित कलाकारों के साथ-साथ स्थानीय संगीतज्ञों ने अपने सुरीले गीतों से पूरे वातावरण में भक्तिरस गोल दिया और श्रद्धालु पूरी रात सुर सरिता में गोते लगाते रहे। पटना से पहुंचीं मैथिली स्वर कोकिला रंजना झा, उनके सहयोगी युवा कलाकार रजनीश झा के साथ-साथ स्थानीय कलाकारों में पं. नरेश सिन्हा, अरुण पाठक, रंजना राय, कुमार मोहन ठाकुर आदि ने अपने गीतों से पूरी रात समां बांधे रखा। कलाकारों ने मैथिली एवं हिंदी में भजनों के साथ-साथ शास्त्रीय गायन से सबको मंत्रमुग्ध कर दिया। रंजना झा ने दुआर महामाया पूजा लय एलहुं दुआर…, शिव हो उतरब पार कओन विधि…, जय अंबे गौरी मैया सहित विद्यापति-रचित चानन भेल विषम… गीतों के अलावा शास्त्रीय गायन में राग मालकोश में तीन ताल पर निबद्ध जुग-जुग सं नाच नचा रहलौं…, कनक भूधर शिखरवासिनी चंद्रिका लय चारू हासिनी… आदि गाने के साथ-साथ श्रोताओं की कई फरमाइशी भी पूरी कीं। उनके साथ तबले पर पं. बच्चनजी महाराज एवं रूपक झा ने कुशल संगत की।

इसके पूर्व रजनीश झा ने जगदंब अहीं अवलंब हमर…, गौरा तोर अंगना…, अरुण पाठक ने धूप-दीप माला लेने…, कोहबर सजा रखू…, रंजना राय ने देखू-देखू सखी हे… जेहने किशोरी मोरी…, कुमार मोहन ठाकुर ने वर दे वीणावादिनी वर दे… आदि गीत सुना सब की भरपूर तालियां बटोरीं। इनके साथ नाल पर राकेश सिंह, की-बोर्ड पर राजेंद्र कुमार और पैड पर विधान दत्ता ने संगत की। शास्त्रीय गायन की कड़ी में पंडित नरेश सिन्हा ने राग अड़ाना में माता कालिका…, जगत में झूठी देखी प्रीत… आदि गाए। कार्यक्रम का समापन उषाकाल में पं. नरेश और पं. बच्चन ने संयुक्त रूप से झपताल निबद्ध राग भैरवी में भवानी दयानी… से किया। इसके पूर्व प्रारम्भ में रिचा राय ने जय-जय भैरवि… गीत पर सुंदर भाव नृत्य की प्रस्तुति से सबको मोहित किया। मैथिली कला मंच काली पूजा ट्रस्ट के महासचिव सुनील मोहन ठाकुर ने सभी अभ्यागतों का स्वागत करते हुए अतिथियों का परिचय कराया। संचालन विवेकानंद झा ने किया।

कलाकारों को किया सम्मानित
कार्यक्रम के दौरान मैथिली कला मंच काली पूजा ट्रस्ट के अध्यक्ष कृष्ण चंद्र झा, महासचिव सुनील मोहन ठाकुर के अलावा मुख्य रूप से उपस्थित संस्थापक सदस्य बुद्धिनाथ झा सहित मिथिला सांस्कृतिक परिषद के अध्यक्ष कुमुद कुमार ठाकुर, पूर्व महासचिव हरिमोहन झा, मिथिला महिला समिति की किरण मिश्रा आदि ने कलाकारों को स्मृति फलक तथा महिला गायिकाओं को माता की चुनरी भेंट कर सम्मानित किया।


दूसरे दिन कुंवारी भोजन सहित हुए कई कार्यक्रम
श्यामा माई मंदिर में दोदिवसीय काली पूजनोत्सव के दूसरे दिन सोमवार को कुंवारी कन्याओं के भोजन के साथ-साथ कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। महाआरती एवं महाभोग वितरण, श्री महाकाली पूजन, कुमारि-बटुक पूजन, हवन, अभिषेक जलवर्षा, महाप्रसाद वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। आयोजन की सफलता में संस्था के अध्यक्ष केसी झा, महामंत्री सुनील मोहन ठाकुर सहित रामबाबू चौधरी, रवीन्द्र झा, मिहिर मोहन ठाकुर, काली कांत मिश्र, पीके झा चंदन, ऋषिकेश चौधरी, हरिश्चंद्र झा, छोटू ठाकुर, डॉ यूसी झा, गोविंद कुमार झा, विनोद झा, गणेश झा, पं गोविंद झा, गंगेश पाठक, भूषण पाठक, सुदीप कुमार ठाकुर, प्रवीण कुमार झा, रोशन झा, कन्हैया झा आदि की अहम भूमिका रही।

 

संबंधित समाचार

error: Content is protected !!