नक्सली हिंसा का रास्ता छोड़ मुख्यधारा में लौटें, अन्यथा पुलिस की गोलियों के लिए तैयार रहें-SP

मुख्यधारा/बोकारो :: एसपी कार्तिक एस गोमिया थाना के निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बातचीत के क्रम में  कहा कि “समाज की मुख्यधारा से लोगों को भटकाकर हिंसा करनेवाले नक्सलियों के खिलाफ पुलिस प्रशासन अब कोई रहमी नहीं बरतने वाला है।” उन्होंने स्पष्ट किया कि नक्सली हिंसा का रास्ता छोड़ मुख्यधारा में लौटें, अन्यथा वे पुलिस की गोलियों का शिकार बनने को तैयार रहें। कहा कि राज्य सरकार ने सरेंडर पॉलिसी के तहत नक्सलियों को अंतिम मौका देने का काम किया है। पूरे झुमरा और लुगू पहाड़ में नक्सलियों को सिर छिपाने के लिए अब जगह नहीं बची है।

पुलिस अधीक्षक कार्तिक एस ने कहा कि झुमरा पहाड़ एवं उसके आसपास के क्षेत्रों में नक्सलियों का सफाया करने के लिए पुलिस का सर्च अभियान निर्णायक मोड़ पर है। जिले के किसी भी हिस्से में उग्रवाद को पनपने नहीं दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इनामी नक्सली मिथिलेश सिंह, रणविजय महतो, संतोष महतो सहित अन्य हार्डकोर नक्सलियों को राज्य सरकार ने आत्मसमर्पण कर सम्मान का जीवन जीने का मौका दिया है। एसपी ने भी कहा कि नक्सलियों के संपर्क में रहनेवाले लोगों पर भी पुलिस की कड़ी नजर है। कहा कि नक्सलियों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से मदद पहुंचानेवाले लोग भी पुलिस के रडार पर हैं। ऐसे लोगों पर कानून का फंदा कसा जा रहा है।

इससे पूर्व एसपी ने गोमिया सहित नक्सल प्रभावित थाना के पुलिस पदाधिकारियों को कड़ा अल्टीमेटम दिया कि उग्रवाद की आड़ में कोयला, लोहा और पत्थरों की तस्करी करने वाले तत्वों की पहचान कर उन्हें सलाखों के पीछे पहुंचाएं।

एसपी ने थाना प्रभारियों को निर्देश दिया कि थाना में फरियाद लेकर आने वाले पीड़ितों की समस्या सुनकर उसके समाधान की दिशा में फौरी कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। शिकायत मिलने पर ऐसे थाना प्रभारियों को भी नहीं बख्शा जाएगा। पुलिस का संबंध आम जनता से मैत्रीपूर्ण होना चाहिए। इससे पहले एसपी ने गोमिया थाना में एएसपी अभियान उमेश कुमार, गोमिया के पुलिस इंस्पेक्टर राधेश्याम दास, गोमिया थाना प्रभारी आशुतोष कुमार, चतरोचट्टी थाना प्रभारी राणा भानु प्रताप सिंह सहित अन्य पुलिसकर्मियों के साथ लंबी बैठक कर नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे सर्च ऑपरेशन की गहन समीक्षा की। सोमवार को पेंक के कौसी गांव से नक्सली कमांडर रणविजय महतो के दस्ते का खास सदस्य मंगरा मांझी की गिरफ्तारी से पुलिस के हौंसले बुलंद हैं।

संबंधित समाचार