CCL कथारा वाशरी प्रबंधन आग बुझाने में नाकाम पर पत्रकारो पर आग बबूला, बताया ब्लेकमेलर

सीसीएल कथारा वाशरी के कोयला स्टॉक मे लगी आग दुसरे दिन भी बरकरार

क्षतिग्रस्त पाइप से आग बुझाने पर असफल होने पर कार्य पर लगाया डोजर

आग बुझाने के दौरान सुरक्षा नियमो की अनदेखी और अधिकारी रहे मूकदर्शक

अधिकारी ने पत्रकारो  को बताया ब्लेकमेलर

दिपांकर डे /BERMO :: सीसीएल कथारा प्रक्षेत्र अन्तर्गत कथारा वाशरी के कोयला स्टॉक नंबर 12 में बुधवार के दिन आग लग जाने का मामला प्रकाश आया।  मामला प्रकाश मे आते ही पत्रकारो का दल कथारा वाशरी पहुंचा और वास्तुस्थिति से अवगत हुआ जहां देखने को मिला कि कथारा वाशरी के 12नम्बर कोयला स्टॉक में दुसरे दिन भी आग और उठता धुआं स्पष्ट दिख रहा था जिससे पूरी तरह साफ बंया हो गया की कोयला स्टॉक पर लगी आग पर प्रबंधन काबू पाने मे बिल्कुल विफल रहा।

आखिर किस तरह सीसीएल प्रबंधन की लापरवाही व अनदेखी की वजह से कोयला स्टॉक में लगी आग को प्रबंधन गम्भीर नही है।  उक्त आग के हवाले हजारों टन कोयला राख होने के कगार पर पडी है और सीसीएल प्रबंधन महज अपनी औपचारिक भूमिका निभाती दिख रही है।

इस संदर्भ में कथारा प्रक्षेत्र के स्टाफ ऑफिसर माइनिंग महेश कुमार पासी से पत्रकारो द्वारा पूछे गये सवालो पर आग बबूला होते हुए भडक उठे और पत्रकारो को ब्लैकमेलर की संज्ञा तक दे डाली।

सूत्रो से मिली जानकारी के अनुसार उक्त पदाधिकारी को बिना सीसीएल मुख्यालय के निदेशक तकनीकी के स्वीकृती के उक्त पद पर पदस्थापित किया गया है।  श्री पासी पिछले कई वर्षो पूर्व से ही कथारा प्रक्षेत्र के विभिन्न परियोजनाओ मे पदस्थापित रह चूके हैं।  साथ ही पूर्व मे भी कई मामले मे विवादो के कारण चर्चा मे रहे है!

वहीं इस मामले पर कथारा मुख्य महाप्रबंधक प्रकाश चंदा से उनके कार्यालय मे उनका पक्ष लिया गया जिस दौरान उन्होने बताया गर्म क्षेत्र मे इस तरह का समस्या आते रहती है।  इसका मात्र एक विकल्प है पानी से ठंडा कर जल्द वॉश कर वाशरी को फिट कर दिया जायेगा।  साथ ही कहा की कोयला स्टॉक का वही जगह है बताता चलू की सीसीएल प्रबंधन के पास कोयला स्टॉक मे लगी आग को स्थाई रूप से बूझाने के लिए कोई वेकल्पिक व्यवस्था नही है!

आग पर काबू पाने के लिए कार्य पर लगाया गया डोजर मशीन -कथारा वाशरी के कोयला स्टॉक 12नम्बर मे सुलगती आग पर काबू पाने के लिए बुधवार को प्रबंधन द्वारा पाईप से पानी का बोछार किये जाने के बाद भी दुसरे दिन तक भी सुलगती आग पर काबू पाने मे कामायाबी प्रबंधन को नही मिला तो गुरूवार को कोयला स्टॉक मे सुलगती आग पर नियंत्रण पाने के लिए डोजर मशीन को कार्य पर लगाया गया

सीसीएल अधिकारीयो के समक्ष ही सुरक्षा नियमो की जा रही थी अनदेखी अधिकारी बने रहे मूकदर्शक – सीसीएल प्रबंधन मजदूरो का जिंदगी से किस तरह अनदेखी व सुरक्षा नियमो को ताक पर रख अपने नजरो के सामने मजदूर से आग बूझाने के कार्य मे योगदान ले रहे थे। दरअसल मामला सुरक्षा नियमो की अवेहलना का साफ स्पष्ट हो रहा था मजदूर बीना सुरक्षा मानक जैसे टोपी ,सेफ्टी बेल्ट संसाधनो के अभाव मे आग बूझाने के प्रयास जद्दोजहद कर रहा था वे भी कोयला के स्टॉक पर आग लगे स्थानो पर खडा होकर कार्य करते दिखा और अधिकारी महज मूकदर्शक बने रहे।  वहीं जब सुरक्षा नियमो की अनदेखी का सवाल पूछा गया तो एक ही लाईन मे बोले की कहीं अनदेखी नही हो रहा है जबकी दृश्य साफ बंया कर रहा है।

संबंधित समाचार