अंन्तरप्रांन्तिय अपराधकर्मी सरगना अशोक राय को बोकारो पुलिस द्वारा कोलकाता से गिरफ्तार

अंन्तरप्रांन्तिय कुख्यात अपराधकर्मी एवं संगठित अपराध के सरगना अशोक राय को बोकारो पुलिस ने कोलकाता से गिरफ्तार करने मे सफलता पाई है। अशोक राय पिछले 15 सालो से फरार चल रहा था और अपनी गिरफ्तारी के डर से लगातार ठिकाना बदलता रहा लेकिन अंत मे बोकारो पुलिस के हत्थे चढ ही गया।

बताया जा रहा है कि अशोक राय आमतोर पर बिहार के बाहुबली विधायक धूमल सिंह और राजेश सिह के लिए काम करता था और बोकारो, रामगढ और राॅची के लोहा व्यवसाईयो से गुन्डा टेक्स वसूलने का काम करता था। इसका सम्पर्क राॅची, रामगढ बोकारो और कोलकाता के अपराधकर्मीयो से है। ये बोकारो मे होनेवाले स्क्रेप लोहे के टेन्डर को मेनेज करने का काम करता था और उसके बदले गुन्डा टेक्स वसूलता था। इसपर 15 साल पहले बोकारो के बालिडीह, बीएस सिटी और चास थाना मे कई केस दर्ज है। बीएस सिटी थाना मे तो हत्या का भी केस दर्ज है। बोकारो पुलिस को 15 सालो से इस कुख्यात अपराधी की तलाश थी। मूलतः ये उत्तरप्रदेश के लंका थाने, वाराणसी का रहनेवाला है।

बोकारो के एसपी ने कहा कि इसके पुछताछ के आधार पर इसके साथियो की भी तलाश की जायेगी। एसपी ने कहा कि ये 15 साल पहले बोकारो मे लोहा के स्क्रेप को मेनेज करने का काम करता था। जिसके बदले ये गुन्डा टेक्स लेता था। जो भी इस गिरोह का बात नही सुनता था उसकी हत्या तक करने से भी गुरेज नही करता था।

विदित हो कि सीसीएल के 27 सौ टन स्क्रैप टेंडर के मैनेज करने में कोलकाता के एक बीयर बार से मोस्टवांटेड अपराधी अशोक राय दबोचा गया। सीसीएल में सात मार्च को करीब पांच करोड़ रुपए के स्क्रैप का टेंडर होना था। एसपी कार्तिक एस को गुप्त सूचना मिली कि टेंडर मैनेज करने के लिए अशोक राय कोलकाता में बैठकर व्यवसायियों के लगातार संपर्क में है। इसके बाद अपराध सेल के प्रभारी इंस्पेक्टर कमल किशोर को तत्काल अलर्ट किया गया। इंस्पेक्टर ने विशेष टीम की मदद से कोलकाता में बीयर बार की घेराबंदी कर मोस्टवांटेड अशोक राय को दबोच लिया। इसके बाद उसे ट्रांजिट रिमांड पर बोकारो लाया गया।

संबंधित समाचार

error: Content is protected !!